grow8889

आमर प्रेमगाथाँ

◆Synopsis◆ *आमर प्रेमगाथाँ* यह प्रेम पर आधारित कहानी हैं जो यह बतलाती हैं किस प्रकार दो प्रेमीयो के प्रेम पथ मे संसार सामाजिक रूढ़ियो (जात-पात,ऊँच-नीच) की जंजीरे पैरो मे डालता हैं और आपने प्रेम को पाने के लिए प्रेमीजोडा़ सभी बाँधाओ से लड़कर आपने प्रेम को पाने मे सफल होते हैं और जो कहानी हालातो …

आमर प्रेमगाथाँ Read More »

प्रेम की अगन

प्रेम जाल की अगन में जला के तुझको भष्म करूँ फट स्वाहा, स्वाहा, स्वाहा | जब साम ढले पीपल तले लेकर तुझको मई मस्त करू , फट स्वाहा, स्वाहा,स्वाहा | जब रत हो नदी तट पर तेरे संग रोमांस करूँ , फट स्वाहा , स्वाहा,स्वाहा | प्रेम जाल के अगन में सी सोर पर लेकर …

प्रेम की अगन Read More »

भगवान् मुर्दे की आत्मा को शांति दे

करिए शिकार कर मुर्दों का तू शिकार कर , भुत प्रेतों से है अपनी यारी ,डायन और ड्रेकुला लगती है मेरी शाली | जिन्दा रहने के लिए खून पीना है जरुरी , प्रेत आत्माओ को किसकी दू मै बली | रात में कब्रिस्तान में बैठकर करता हूँ मैं देवी देवताओ का आह्वाहन , और समसान …

भगवान् मुर्दे की आत्मा को शांति दे Read More »