LoC to afagan border – adream of every Indian

LoC to Afagan border – a dream of every Indian
(एक बच्चा पुष्पराज जो कक्षा 8 मे पढता है, स्कूल टीचर क्लास मे कश्मीर के बारे मे बताते है,)
टीचर – (कश्मीर का नक्शा बताते हुए) कश्मीर भारत का राज्य है इसकी सीमाएं पूर्व मे चीन व पश्चिम मे पाकिस्तान व उत्तर पश्चिम मे अफगानिस्तान से मिलती है, किन्तु वर्तमान मे यह दो भागो मे बंटा हुआ है, जिसकी बीच की सीमा रेखा को लाईन ऑफ कन्ट्रोल ( LOC ) कहाँ जाता है, लाईन के इस तरफ जम्मू-कश्मीर है जो भारत मे है और उस तरफ जो हिस्सा है वह पाकिस्तान के कब्जे मे है, जिसे पाक अधिकृत कश्मीर कहा जाता है। वहाँ दोनो देशो की सेना मे हमेशा फायरिंग होती रहती है, इस प्रकार वर्तमान मे भारत की सीमा ( LOC ) तक ही है, अफगान बोर्डर तक नही मिलती है,
पुष्पराज – सर हम पाक अधिकृत कश्मीर को लेकर ( LOC ) से अफगान बोर्डर तक क्यो नही जा सकते है?
टीचर – पाकिस्तानी सेना जाने नही देती है वो इलाका उनके कब्जे मे है।
पुष्पराज – सर हम उनसे युद्ध कर तो जा सकते है न ।
टीचर – यह अपने स्तर का मामला नही है, सिर्फ पढाई पर ध्यान दो।
(स्कूल से छुट्टी होने पर वह घर लौटता है, माँ से कहता है)
पुष्पराज – माँ हम पाक अधिकृत कश्मीर को लेकर ( LOC ) से अफगान बोर्डर तक क्यो नही जा सकते है?
माँ – आज कुछ ज्यादा पढ आया है क्या? चल कपडे बदल और खाना खा ले,
(पुष्पराज खाना खा कर अपने कमरे मे चला जाता है, और पढाई छोडकर मन मे विचार करता है यदि हम अफगान बोर्डर पर चले जायेंगे तो कितना अच्छा होगा? , विचार करते करते सो जाता है। इस विचार मे ही वह गहरी निंद मे सपने देखता है।)
(सपने मे वह देखता है कि वह बडा हो गया है और सेना भर्ती रेली मे भाग ले रहा है, वह दौड मे दौडता है, दौडते दौडते थक जाता है, दूसरे साथी आगे निकल जाते है वह काफी पिछे रह जाता है, फिर वही प्रश्न याद आता है कि आखिर हम अफगान बोर्डर पर क्यो नही जा सकते है। और वह तेज दौडने का प्रयत्न करता है और गिरते-पडते वह रेस मे जीत जाता है और सेना मे भर्ती हो जाता है,)
(वह अपनी ट्रेनिंग प्रारम्भ करता है जिसमे उसे कई तरह के फिजिकल टेस्ट पास करने है जैसे- पीठ पर वजन लादकर दौडना, रस्सीयो के सहारे चढाई करना, हथियार चलाना, निशाना साधना आदि अनेक प्रकार के कडे टेस्ट देते- देते वह घबरा जाता है, और केम्प छोडकर भागने की कोशिश करता है,)
पुष्पराज – ( अपना बैग वगैरह लेकर जाते हुए) तुम करो हम तो चले, मेरे से तो अब ये सब नही होता।
कुछ साथी – ( पिछे से आवाज लगाते है) अरे अफगान बोर्डर नही देखना क्या?
पुष्पराज – ( थोडी देर रूक कर मन मे कुछ सोच कर फिर पिछे मुड कर देखता हुआ) ओए, उसके लिये तो मै कुछ भी करने को तैयार हूँ।
( फिर दौडता हुआ आता है। और अपने केम्प मे चला जाता है।)
( दूसरे दिन सुबह सबसे पहले तैयार होकर अपनी ट्रेनिंग पर लग जाता है सारे टेस्ट पास कर लेता है।)
(ट्रेनिंग पुरी कर वह घर लौटता है, कुछ समय बाद उसको सूचना मिलती है कि वह सेना मे जम्मु-कश्मीर मे नियुक्त किया गया है।)
(वह दौडता हुआ अपनी माँ के पास जाता है)
पुष्पराज – ( हाफता हुआ) माँ मेरी पोस्टिंग आर्मी मे जम्मु-कश्मीर मे हुई है, मुझे कल वहाँ रिपोर्ट करनी है।
माँ – कही नही जाना है अपना काम कर, आया बडा आर्मी वाला।
पुष्पराज – ( माँ के हाथ पकड कर ) माँ मै तो जाऊंगा तू मुझे खुशी से विदा कर न तेरा बेटा आज कितना खुश है माँ यह तू ही जानती है, माँ तू चिन्ता मत कर। (माँ के आंख मे आंसू देखकर) माँ तू रो रही है।
माँ – नही बेटा ये तो खुशी के आंसू है। मेरा बेटा देश सेवा करने जा रहा है इससे बडी खुशी क्या हो सकती है।
(माँ बेटा मिलकर सारी जरूरत का सामान पैक करते है।)
माँ अपने बेटे को बस स्टोप तक छोडने आती है, दोनो बाते करते- करते रोड तक पहूँचते है,
थोडी देर मे बस आती है। बेटा बस मे बैठकर चला जाता है माँ पिछे से देखती रहती है।
सारी रात बस चलती है, सुबह श्रीनगर के आर्मी हेडक्वाटर पर जाकर रिपोर्ट करता है,
पुष्पराज – ( सलाम कर सावधान की स्थिति मे खडा होकर) केप्टन पुष्पराज रिपोर्टिंग सर,
अफसर – ओ के, वेलकम, यू वील गो ऑन यूवर ड्यूटी एट LOC , एण्ड जोईन टू कम्पनी।
पुष्पराज – यस सर ( झटके से मुडकर बाहर चला जाता है)
फिर वहाँ से वह LOC पर अपनी कम्पनी को जोईन करता है, सभी सदस्यो से मुलाकात करता है, सबसे हिलमिल जाता है, और अपनी ड्यूटी पर लग जाता है।
( कुछ समय पश्चात, देश मे एक शहर मे आतंकी हमला होता है, कुछ लोग मारे जाते है कुछ जवान शहीद हो जाते है, पुरे देश मे आक्रोश होता है। आंतकवादी घटना का बदला लेने के लिए देश मे जगह-जगह प्रदर्शन होते है, )
घटना की गंभीरता को समझते हुए सरकार सेना को आतंकीयो से लडने की छूट दे देती है।
कुछ समय बाद सेना के जवान आतंकी केम्पो को निशाना बना कर खतम करने का प्रयास करते है, तथा देश के भीतर आतंकियो का साथ देने वालो के खिलाफ कार्यवाही करते है,
जिससे आतंकियो को पनाह दे रहा पाकिस्तान हरकत मे आता है, और सीजफायर का उल्लंघन कर गोलीबारी शुरू कर देता है, वह कुछ नागरिको को और सेना के केम्पो को निशाना बनाता है, जिसमे कुछ लोग व जवान शहीद हो जाते है,
आर्मी हेडक्वाटर से जवाबी कार्यवाही के ऑर्डर मिलते है,
केप्टन पुष्पराज के नेतृत्व मे जवाबी कार्यवाही मे पाक कुछ सेनिक मारे जाते है, देखते ही देखते दोनो देशो मे जंग छिड जाती है,
( भारतीय सेना अपनी वीरता दिखाती हुई, LOC पार कर जाती है और पाक सेना को पिछे हटने को मजबूर कर देती है, पाकिस्तानी सेना सरकार की नाकामी से परेशान होकर शासन अपने हाथ मे ले लेती है, और जंग जारी रखती है, भारतीय सेना निरन्तर आगे बढती जाती है और POK मे आम नागरिको को बचाते हुए उनकी चौकियो पर कब्जा करती है और जो जो इलाका भारतीय सेना के कब्जे मे आता जाता है वहाँ सेना द्वारा आम नागरिको के रहने खाने-पीने का केम्प लगाए जाते है, सेना वहाँ की स्कूलो मे पढाई करवाती है, भारत सरकार द्वारा वहाँ की गरिब पिछडी जनता की मदद मे राहत केम्प लगाये जाते है।
इस प्रकार सेना दुर्गम घाटीयो मे पाक फोज से निपटते हुए आगे बढती रहती है बीच-बीच मे आतंकी खुद पाक सेना के साथ युद्ध मे शामील हो जाते है, इस तरह लडते लडते केप्टन पुष्पराज की कम्पनी एक पहाडी की चोंटी पर पहूंच जाती है,
पुष्पराज – ( दुरबीन से देखते हुए, एक झण्डा नजर आता है, वो उसे देखकर खुश हो जाते है,भारत माता के जयकारे के साथ ) साथियो आगे बढो बस कुछ ही दूरी पर अफगान सीमा है, हमने सम्पूर्ण POK प्राप्त कर लिया है,
साथी – यस सर,
(कम्पनी आगे बढती है, अफगान बोर्डर पर तैनात पाक सेना के जवान भाग छुटते है, केप्टन उस पोस्ट से पाक झण्डा उतर फैकते है एवं तिरंगा फहरा कर , भारत माता के नारे लगाते है,
जय हिन्द, जय हिन्द बोलते है,खुशी मनाते है।)
( बच्चा पुष्पराज सपने मे खुशी से भारत माँ की जय बोलने लगता है इतने मे माँ की आवाज आती है उठ स्कूल नही जाना क्या? उसकी निंद टूट जाती है वह आंखे मसलता हुआ उठ जाता है।)
यह वह सपना है जो हर भारतवाती देख रहा है।
समाप्त

Rights Available Click Here



Writers Available




Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *